Category: Moral stories in hindi

रमन की चतुराई कहानी हिंदी में | Raman’s cleverness story in hindi

रमन की चतुराई कहानी हिंदी में | Raman’s cleverness story in hindi Raman’s cleverness story in hindi: एक बार की बात है हंसपुर गांव में एक बलदेव नाम का एक मुखिया रहता था। वह बहुत ही कंजूस किस्म का था और लोगों की भलाई के लिए पैसे खर्च करने से बचता था। एक बार उस

चोटी वाला जिन्न की कहानी हिंदी में | Choti wala jinn moral story in hindi

चोटी वाला जिन्न की कहानी हिंदी में | Choti wala jinn moral story in hindi Choti wala jinn moral story in hindi: बहुत पहले की बात है एक गांव में एक कुम्हार और उसकी बीवी रहते थे। कुम्हार सवभाव से लालची था जबकि उसकी बीवी अच्छे सवभाव की महिला थी। कुम्हार मिट्टी के बर्तन बना

किसान की होशियार बेटी की कहानी हिंदी में | Farmer’s clever daughter story in Hindi

किसान की होशियार बेटी की कहानी हिंदी में | Farmer’s clever daughter story in Hindi Farmer’s clever daughter story in Hindi: एक समय की बात है रामपुर गांव में बलदेव नाम का एक किसान रहता था। उसकी एक बेटी मीना थी जो बहुत सुन्दर और होशियार थी। बलदेव के खेत जमींदार के पास गिरवी थे।

जादुई गुफ़ा की कहानी हिंदी में | Magical cave moral story in hindi

जादुई गुफ़ा की कहानी हिंदी में | Magical cave moral story in hindi Magical cave moral story in hindi: बहुत पहले की बात है बगदाद शहर में दो दोस्त अली और मुनीब रहते थे। अली बहुत गरीब था और किसी के घर बकरियाँ चरा कर अपना गुजारा करता था। वह सवभाव से बहुत ही ईमानदार

लालची औरत की कहानी हिंदी में | Greedy woman moral story in hindi

लालची औरत की कहानी हिंदी में | Greedy woman moral story in hindi Greedy woman moral story in hindi: एक बार की बात है एक गांव में श्याम नाम का मछुआरा और उसकी पत्नी रहते थे। वह बहुत गरीब थे और एक झोपड़ी में रहते थे। मछुआरा केवल अपने खाने के लायक ही मछली पकड़

होशियार मुखिया की कहानी हिंदी में | Clever village chief moral story in hindi

होशियार मुखिया की कहानी हिंदी में | Clever village chief moral story in hindi होशियार मुखिया कहानी हिंदी में | Clever village chief moral story in hindi: एक समय की बात है रामपुर गांव में हरीश नाम का एक दूधिया रहता था। गांव के सभी व्यक्तियों को वही दूध देता था। कोई भी दूधिया बाहर