Moral stories in hindi for students

बदसूरत बहु | Moral stories in hindi for students

76 / 100 SEO Score
 Moral stories in hindi for students
Moral stories in hindi for students

Moral stories in hindi for students

रामरती की दो बहुए थी। बड़ी बहू का नाम रेखा था। जो देखने में काली थी। वह उसके बड़े बेटे मोहन की बीवी थी। उन दोनों की लव मैरिज थी। रामरती अपनी बड़ी बहू को उसके रंग के कारण बिलकुल भी पसंद नहीं करती थी।

उसकी छोटी बहु का नाम कमला था। जो की उसके छोटे बेटे रवि की बीवी थी। रामरती छोटी बहु कमला को बहुत पसंद करती थी। क्योकि वह देखने में सूंदर थी और उसको रवि के लिए उसने पसंद किया था।

रेखा कुछ दिनों के लिए अपने मायके गयी हुई थी। रामरती अपने पति से रेखा की चुगली करती है की अगर मोहन ने मेरी बात मानी होती तो उसकी भी कमला जैसी सुन्दर बहु लेकर आती। रामरती का पति भी अपनी पत्नी को समझाता था की रंग रूप से कुछ नहीं होता व्यक्ति के गुण मायने रखते है।

लेकिन रामरती को कोई फर्क नहीं पड़ता था। एक दिन रामरती के छोटे बेटे और बहु ने गोवा जाने का प्लान बनाया। उनको दो दिन बाद गोवा जाना था। अगले दिन रामरती की कमर में बहुत दर्द होने लगा।

Moral stories in hindi for students

उसको डॉक्टर के पास जाना था तो उसने अपने छोटे बेटे रवि को कहा तो रवि ने बोला की आज हमें शॉपिंग करने के लिए मार्किट जाना है। आप बड़े भाई के साथ चले जाइये। शाम को जब वह घर लौटे तो रामरती की तबियत ज्यादा ख़राब थी और घर पर डॉक्टर आये हुए थे।

डॉक्टर ने रामरती को 1 हफ्ते बेडरेस्ट की सलाह दी। रवि के पिता ने रवि को गोवा में बाद में जाने की सलाह दी। तब छोटी बहू कमला बोली की हमनें गोवा जाने का बहुत दिन से प्लान किया हुआ है। माँ जी तो रोज़ रोज़ बीमार होती है।

यह भी पढ़े : Moral stories in hindi for class 6

यह कहकर चली गयी। मोहन बोला पिता जी कोई बात नहीं मै रेखा को कल सुबह ही बुला लूंगा। अगले दिन रवि और उसकी बीवी गोवा चले गए। रेखा को जैसे ही पता चला की माँ जी की तबियत ख़राब है वह तुरंत घर पर पहुंच गयी।

रामरती को इस सबसे पता चल चूका था की रंग रूप से ज्यादा व्यक्ति के गुण महत्त्व रखते है। वह जिस छोटी बहू को अच्छा समझती थी उसके गुणों ने उसको दुःख पहुंचाया जबकि जिस बड़ी बहु रेखा को वह पसंद नहीं करती थी उसके अच्छे गुणों से वह बहुत खुश थी।

Moral of the story

सीख : हमें व्यक्ति के रंग रूप से ज़्यादा उसके गुणों को ध्यान देना चाहिए।