बीरबल का न्याय कहानी हिंदी में। Justice Story of Birbal in Hindi

Spread the love
बीरबल-का-न्याय-कहानी-हिंदी-में।-Justice-Story-of-Birbal-in-Hindi
बीरबल-का-न्याय-कहानी-हिंदी-में।-Justice-Story-of-Birbal-in-Hindi

बीरबल का न्याय कहानी हिंदी में। Justice Story of Birbal in Hindi

Justice Story of Birbal in Hindi: एक बार की बात है अकबर का दरबार सजा था। अकबर के दरबार में दो व्यापारी दीनानाथ और रामप्रसाद आये। अकबर ने उनसे उनका परिचय और आने का कारण पूछा।

रामप्रसाद ने दोनों का परिचय दिया और बताया की उसने एक महीने पहले दीनानाथ को 100 सोने के सिक्के उधार दिए थे। लेकिन अब वह इसको लौटाने से तो मना कर ही रहा है बल्कि यह भी झूठ बोल रहा है की मैंने कभी उसको सोने के सिक्के उधार दिए ही नहीं।

इसके बाद रामप्रसाद बोला हजूर इसने कभी मेरे को सोने के सिक्के उधार नहीं दिए यह मेरे व्यापार को नुक्सान पहुंचाने के लिए ऐसा बोल रहा है। अकबर ने दोनों की बात सुनी और बीरबल को बोला की तुम इन दोनों का न्याय करो।

बीरबल का न्याय कहानी हिंदी में। Justice Story of Birbal in Hindi

बीरबल ने दोनों से विस्तार से पूछा की हुआ क्या था। दोनों ने अपनी अपनी सफ़ाई में बातें बताई। बीरबल ने बादशाह अकबर को कहा यह तो तय है की इन दोनों में से कोई एक व्यक्ति झूठ बोल रहा है। इसका पता लगाने के लिए मुझे 1 दिन का समय चाहिए।

अकबर ने बीरबल को मामला सुलझाने के लिए 1 दिन का समय दिया। बीरबल ने घर पर जाकर बहुत सोचा उसके बाद अपने नौकर रामू को बोला तुम बाजार में जाकर दीनानाथ और रामप्रसाद के बारे में पता करो की दोनों किस प्रकार के व्यक्ति है।

रामू बाज़ार जाकर दोनों के बारे में पता करके आ गया और बीरबल को बताया की रामप्रसाद को सभी ने एक अच्छा और ईमानदार व्यक्ति बताया जबकि दीनानाथ को लालची और धोखेबाज़ किस्म का व्यक्ति बताया।

Akbar Birbal Story in Hindi

बीरबल ने इसके बाद रामू को दो घी से भरे हुए मटके दिए और दोनों में एक एक सोने का सिक्का डाल दिया। बीरबल ने रामू से कहा तुम एक घी के व्यापारी बन कर जाओ और दीनानाथ और रामप्रसाद को यह घी का मटका बेच दो और अगले दिन तक वहीं मार्किट में रहना और देखना कौन तुमको वह सोने का सिक्का लौटाता है।

रामू ने ऐसा ही किया और दोनों को घी से भरा मटका बेच दिया। जिसके बाद रामप्रसाद ने तो सोने का सिक्का लौटा दिया लेकिन दीनानाथ ने सोने का सिक्का नहीं लौटाया। उसने यह बात आकर बीरबल को बता दी।

बीरबल ने अगले दिन दरबार में रामप्रसाद और दीनानाथ दोनों को बुलाया और बताया की दीनानाथ झूठ बोल रहा है और वह दोषी है। अकबर ने इसका कारण पूछा तो बीरबल ने सारी बात अकबर को बता दी।

अकबर ने दीनानाथ को 100 सोने के सिक्के लौटाने को कहा इसके साथ 100 सोने के सिक्के अतिरिक्त उसको रामप्रसाद को परेशान करने के लिए देने होंगे फैसला सुनाया। अकबर ने बीरबल की बुद्धिमानी के लिए उनकी तारीफ़ की।

यह भी पढ़े: Journey to heaven akbar birbal story

फांसी से वापसी | Return From the Gallows Story in Hindi

रक्षक कहानी हिंदी में | Saviour Akbar Birbal Story in Hindi

25+ Best Bhagat Singh Quotes in Hindi and English | भगत सिंह कोट्स हिंदी और इंग्लिश में

close