Money saving tips | पैसे बचाने के लिए कुछ सुझाव

Money saving tips  पैसे बचाने के लिए कुछ सुझाव
Money saving tips पैसे बचाने के लिए कुछ सुझाव

Money saving tips | पैसे बचाने के लिए कुछ सुझाव: पैसे को बचाने के लिए लोग न जाने क्या क्या नहीं करते। लेकिन आजकल की महँगाई में कोई भी मध्यम वर्ग का इंसान पैसा बचाने में सही रूप से सक्षम नहीं हो पाता। लोग आजकल पैसे को बचाने का मतलब बैंक में अपने पैसे को जमा करने को सोचते है।

अगर वो कुछ पैसे बचा पाते है तो जो की वो बैंक में जमा कर सके तो उससे वो खुशी की अनुभूति करते है। लेकिन वास्तव में बैंक में पैसे जमा करके अपने भविष्य के लिए बचाना बिलकुल भी सही नहीं है। इसको में आपको एक उदाहरण से समझाता हूँ। मान लीजिये आपने अपने पैसे को बैंक में एक साल के लिए जमा कर दिया।

बैंक से आपको 1 साल में इस पर 6 % ब्याज़ मिल जाता है लेकिन क्या आपको पता है एक साल में महँगाई किस हिसाब से बढ़ रही है। हर साल महँगाई 10 से 12 % के हिसाब से बढ़ रही है। इसके हिसाब से आपने एक साल में अपने पैसे को बैंक में रख कर कम से कम 4 % का नुकसान कर लिया है। एक साल में घर का किराया भी 10 % बढ़  जाता है। इस हिसाब से आप बैंक में अपने पैसे को जमा करके बुढ़ापे के लिए जोड़ रहे है तो आप ग़लत कर रहे है।

आप यदि अपने पैसों को 10 से 15 सालों तक बैंक में रखते है तो इस पैसे की वैल्यू इतने सालों बाद बहुत कम रह जाएगी तब तक महँगाई ही इतनी बढ़ जाएगी की आपको ये पैसे पर्याप्त नहीं रहेंगे।

पैसे अपने ऊपर लगाना।

यदि आप अपने पैसे की वैल्यू  बढ़ाना चाहते है तो आपको पैसे को अपने ऊपर लगाना चाहिए। आपको अपनी सैलरी का कुछ हिस्सा सबसे पहले आपको खुद को देना चाहिए। यदि आप आज 10000 की नौकरी कर रहे है तो यह पैसा आप अपनी कुछ न कुछ स्किल का प्रयोग करके ही कमा रहे होंगे।

यदि आप अपनी स्किल को लगातार बढ़ाते जाते है तो आपकी सैलरी भी बढ़ती जाएगी। इसके लिए आपको अपनी सैलरी में से 5 से 10 % हर महीने अपने ऊपर खर्च करना चाहिए जिससे आपकी स्किल बढ़ सके। जिस तरह आप कोई कंप्यूटर कोर्स कर सकते है , इंग्लिश सीख सकते है या फिर कुछ ऐसी चीज़ सीख सकते है

Money saving tips | पैसे बचाने के लिए कुछ सुझाव

जिसकी काफ़ी डिमांड हो जो स्किल आपको आगे ज़्यादा कमा कर दे सके। वैसे तो आपको लगातार स्किल सीखते रहना चाहिए लेकिन आप इसके साथ साथ यही 5 से 10 % को किसी जगह इन्वेस्ट भी कर सकते है जिससे आपको आगे इसमें बढ़ोतरी हो कर मिले।

और जब आपको इस 10 % का भी मुनाफ़ा मिलता है तो उसमे से भी आपको 10 % को दोबारा इन्वेस्ट करना है। इस तरह आपने जो पैसा कमाया उसकी वैल्यू बढ़ा रहे है। बाकी सैलरी को आप बाकी के ख़र्च में इस्तेमाल कर सकते है।

आप अपने पैसों को म्यूच्यूअल फण्ड या फिर रियल एस्टेट में इन्वेस्ट कर सकते है। रियल एस्टेट में निवेश हमेशा से ही फायदे का सौदा रहा है क्योंकि दिन प्रतिदिन लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है और लोग पहले सयुंक्त परिवार में रहते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है जिससे हर किसी व्यक्ति का सपना अपने घर का होता है। ऐसे में बढ़ते लोग के हिसाब से जमीन उतनी अधिक नहीं है। इसी के परिणाम सवरूप रियल एस्टेट के दाम दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है।

पैसे बचाने नहीं कमाने पर जोर देना

जब आप पैसे को सही ढंग से इस्तेमाल करना सीख जाते है तो ख़र्च आपके लिए कोई समस्या नहीं रहेगी। लोग यह सोचते है की इस महीने इतना खर्चा हो गया और फिर ज्यादा बचाने पर जोर देते है आपको पैसे अपनी जरूरतों को कम करके नहीं बचाने।

आपको अपनी आय को बढ़ाने पर जोर देना चाहिए। खर्च तो होगा ही लोग ऐसे भी होते है जो महीने में 10000 खर्च करते है कोई महीने में दस लाख भी खर्च करते है और कोई महीने में 10 करोड़। यदि आपकी आय बढ़ेगी तो आपके लिए छोटा खर्चा कुछ नहीं है।

यदि आप कमाते ही 10000 है और आप पर 25000 का खर्चा आ जाये तो आपके लिए यह बहुत बड़ा है लेकिन यही खर्चा जिसकी सैलरी 1 लाख है उसके लिए छोटा है। इसके लिए आपको जितना हो सके ज़्यादा कमाना सीखना होगा और उस आय में से भी कुछ को आगे के लिए इन्वेस्ट करना सीखना होगा।

यह भी पढ़े: Health tips in hindi | स्वास्थय सुझाव हिंदी में

जिससे आप और ज्यादा कमा सके। यदि आप इस नियम का लम्बे समय तक पालन करते है तो इसका फर्क आप अपने जीवन में होती तरक्की से साफ़ देख सकते है। यदि आप अच्छा और लक्ज़री जीवन जीना चाहते है तो आपको अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकलना होगा और मेहनत करनी होगी।

मेहनत से ही आप अपने सपनों को पूरा कर सकते है। मेहनत से हमारा मतलब मजदूरी करने से नहीं है बल्कि सही दिशा में अपने लक्षयों की तरफ़ बढ़ने से है फिर चाहे उसको पाने के लिए आपको कितना ही परिश्रम ही क्यों न करना पड़े।  यदि आप एक लक्ष्य निर्धारित करके उसकी तरफ़ जी जान से मेहनत करते है तो आप सफल जरूर होते है चाहे वह लक्ष्य पैसों को लेकर हो या फिर अन्य किसी चीज़ को लेकर।