Home remedies for acidity | एसिडिटी के लिए घरेलु इलाज

Home remedies for acidity | एसिडिटी के लिए घरेलु इलाज
Home remedies for acidity | एसिडिटी के लिए घरेलु इलाज

Home remedies for acidity | एसिडिटी के लिए घरेलु इलाज: आजकल के गलत खाने की आदतों के कारण लोगों को एसिडिटी की समस्या होना आम बात है। जब आप खाना खाते है तो आपके खाने को पचाने के लिए आपके पेट में अम्ल बनता है जिससे खाना पचता है और जो जरुरी भी है। लेकिन गलत खानपान से यह अम्ल ज्यादा मात्रा में बनने लग जाता है जिससे एसिडिटी की समस्या उत्पन्न होती है। मोटे लोग इस समस्या से ज्यादा परेशान दिखाई देते है। एसिडिटी के कारण आपको  छाती में जलन, मुँह  में खट्टा पानी आना , पेट में गैस बनना, उल्टी होना, सिरदर्द होना, खाने का मन नहीं करना और बेचैनी होना जैसे लक्षण दिखाई देते है। इसके कारण आप आसानी से एसिडिटी का पता लगा सकते है।

Causes of acidity | एसिडिटी होने के कारण

एसिडिटी होने के बहुत से कारण जिम्मेदार होते है। यदि आप शादी या पार्टी में जाते है और स्पाइसी फ़ूड और तरह तरह के चाट पकोड़े का सेवन करते है तो इससे आपको एसिडिटी हो सकती है। आपको इसके लिए बाहर का फ़ास्ट फ़ूड और मोमोज़ खाने कम कर देने चाहिए तभी आप इस एसिडिटी से मुक्ति पा सकते है।

किन्ही लोगो को बार बार चाय पिने की आदत होती है जो सुबह बेड से उठने के बाद और रात को सोने से पहले बहुत बार चाय पीते है। चाय का ज्यादा प्रयोग भी पेट में एसिडिटी करता है। इसलिए आपको चाय को हो सके तो छोड़ ही देना चाहिए।

जो लोग दिन में बहुत कम पानी पीते है ऐसे लोग भी एसिडिटी से परेशान देखे गए है कम पानी पिने से पेट में खाना सही से पचता नहीं है और अम्ल की मात्रा भी ज्यादा हो जाती है। इसलिए जो लोग एसिडिटी से पीड़ित हो उनको दिन में ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करना चाहिए।

Home remedies for acidity | एसिडिटी के लिए घरेलु इलाज

ऐसे लोगों अपने दिन की शुरुआत चाय की बजाय पानी से करनी चाहिए। यदि ऐसे लोग सुबह उठते ही 2 गिलास पानी पीते है तो यह उनके एसिडिटी के लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा। एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए आप बहुत ही आसान और कारगर घरेलु नुस्खों की मदद ले सकते है। आपको एसिडिटी होने पर 1 गिलास पानी और आधा चम्मच मसाले में प्रयोग होने वाला जीरा लेना है। अब पानी और जीरे को किसी बर्तन में डाल कर गैस पर रख दे।

अब इसको  इतनी देर तक उबाले जितनी देर तक पानी आधा न रह जाये। अब आप इसको छान कर जीरे को अलग कर सकते है। यह पानी को आप घुट घुट करके पीना है। इसको आप दिन में जितनी बार खट्टी डकार आये या पेट भारी भारी सा लगे उतनी बार ले सकते है।

यह प्रयोग रामबाण की तरह एसिडिटी में काम करता है। इसके 2 से 3 दिन के प्रयोग से आपकी समस्या दूर हो जाएगी।

आप एसिडिटी की समस्या में जितना हो सके ज्यादा से ज्यादा केले का प्रयोग अपने भोजन में करे। आप अपने खाने के बीच के समय में केले खा सकते है इसका प्रयोग भी आपको एसिडिटी खत्म करेगा। आप एसिडिटी को दूर करने के लिए आँवला पाउडर या आँवले के मुरब्बे का प्रयोग कर सकते है।

आंवले के मुरब्बे को आप रोज़ाना दोपहर के समय ले सकते है और यदि आप आँवला पाउडर लेना चाहते है तो आप इसमें थोड़ा मिश्री का पाउडर मिला सकते है। क्योंकि खाली आँवला लेने पर यह कसैला होता है।

Home remedies for acidity | एसिडिटी के लिए घरेलु इलाज

आप जितना आवला पाउडर ले उतना ही मात्रा में मिश्री ले। अब 1 चम्मच रात को सोते समय 1 गिलास पानी के साथ ले ले। इसका रोज़ाना प्रयोग आपको एसिडिटी से मुक्ति दिलाने में बहुत लाभ करेगा।

आप सुबह के समय एसिडिटी से मुक्ति पाने के लिए प्राणायाम का सहारा भी ले सकते है। आप 10 -10 मिनट कपालभांति और अनुलोम विलोम प्राणायाम का अभ्यास कर सकते है। इसके बाद आप अलोएवेरा के जूस का सेवन कर सकते है।

यह भी पढ़े: Home remedies for cold | सर्दी ज़ुखाम को दूर करने के घरेलु नुस्ख़े

अलोएवेरा का जूस एसिडिटी के लिए बहुत अच्छा है। इसका आपको जरूर सेवन करना चाहिए। आपको अलोएवेरा के जूस के 2 से 3 चम्मच 1 गिलास पानी में मिलाकर लेना चाहिए। आप एसिडिटी से तुरंत राहत पाना चाहते है जब आपको पेट भारी या बेचैनी सी हो रही हो तो 1 गिलास पानी में 1 निम्बू निचोड़कर उसमे चुटकी भर काला या सेंधा नमक मिलाये। यह एसिडिटी में तुरंत राहत देने वाला है।

यदि आप कोल्ड ड्रिंक का ज्यादा सेवन करते है तो आपको इसको भी छोड़ देना चाहिए। आप एसिडिटी की समस्या में दिन में नारियल पानी का भी सेवन कर सकते है। आप एसिडिटी में पपीता भी खा सकते है यह भी इसमें बहुत अच्छा काम करता है।

इसके साथ आपको यह भी ध्यान रखना है की आपको समय समय पर भोजन कर लेना है आपको कोई भी खाने को स्किप नहीं करना है यदि आपका पेट खाली रहता है तो इस स्थिति में भी एसिडिटी हो जाती है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *